देश में इस तारीख से लागू होंगे नए आपराधिक क़ानून, अधिसूचना जारी Featured

बोलता गांव डेस्क।।

नई दिल्ली। New criminal law: देश में तीनों नए आपराधिक क़ानून 1 जुलाई को लागू हो जाएंगे। लागू किए जाने वाले कानूनों में भारतीय न्याय संहिता 2023, भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता 2023 और भारतीय सुरक्षा अधिनियम 2023 शामिल हैं। तीनों नए कानून भारतीय दंड संहिता (आईपीसी), कोड ऑफ़ क्रिमिनल प्रोसीजर और इंडियन एविडेंस एक्ट की जगह लेंगे।

 

 

New criminal law: डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड ट्रेनिंग (डीओपीटी) ने शुक्रवार को नोटिस जारी कर इसकी सूचना दी। डीओपीटी ने विभिन्न मंत्रालयों और विभागों से इन नए कानूनों की सामग्री को अपने विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रमों में शामिल करने का भी अनुरोध किया है।

 

New criminal law: बता दें कि दिसंबर, 2023 में केंद्र सरकार ने देश में बीते 150 साल से चले आ रहे तीन बुनियादी आपराधिक क़ानूनों में बड़े पैमाने पर बदलाव किए थे। सरकार का कहना था कि ये क़ानून ब्रिटिश हुकूमत के दौर के हैं और इन्हें भारतीयों पर शासन करने के लिए बनाया गया था।

 

प्रमुख परिवर्तन जो 1 जुलाई से लागू होंगे

 

राजद्रोह निरस्त

 

बीएनएस विधेयक भारतीय दंड संहिता, 1860 के राजद्रोह प्रावधानों को निरस्त करता है।

इसे भारतीय न्याय संहिता की धारा 152 से प्रतिस्थापित किया गया है।

राष्ट्र की एकता और अखंडता को खतरे में डालने वाले कृत्यों पर ध्यान केंद्रित करने वाली धाराएँ पेश की गई हैं।

 

महिलाओं और बच्चों के विरुद्ध अपराध

 

भारतीय न्याय संहिता ने यौन अपराधों से निपटने के लिए ‘महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध’ शीर्षक से एक अध्याय शुरू किया है।

इसके अलावा, संहिता 18 वर्ष से कम उम्र की महिलाओं के साथ बलात्कार से संबंधित प्रावधानों में संशोधन की सिफारिश कर रही है।

नाबालिग महिला के साथ सामूहिक बलात्कार से संबंधित प्रावधान को यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण अधिनियम (POCSO) के अनुरूप बनाया गया है।

18 वर्ष से कम उम्र की महिलाओं के साथ बलात्कार से संबंधित मामलों में आजीवन कारावास या मृत्युदंड का प्रावधान किया गया है।

कानून के अनुसार, जो कोई भी बलात्कार करता है, उसे कम से कम 10 साल के कठोर कारावास की सजा दी जाएगी, जिसे आजीवन कारावास तक बढ़ाया जा सकता है और जुर्माना भी देना होगा।

सामूहिक बलात्कार के लिए 20 साल की कैद या आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान है।

इसके अलावा, शादी, नौकरी, पदोन्नति या पहचान छिपाकर महिलाओं का यौन शोषण करना अपराध माना जाएगा।

Rate this item
(0 votes)
Last modified on Saturday, 15 June 2024 11:50

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

RO No 12822/9 "
RO No 12784/11 "
RO No 12784/11 "
RO No 12784/11 "

Post Gallery

India Archery Paris Olympics 2024: महिला तीरंदाजी के रैंकिंग राउंड में भारत की टीम ने सीधे क्वार्टरफाइनल में एंट्री ले ली है

राष्ट्रपति भवन के हॉल का नाम बदलने पर बोलीं प्रियंका गांधी

मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय सीआईआई द्वारा आयोजित ग्रीन स्टील समिट 2024 में हुए शामिल

मैंने नई पीढ़ी को कमान सौंपने का फैसला लिया, आगे बढ़ने का यही सर्वश्रेष्ठ तरीका, देश के नाम संबोधन में बोले बाइडन

मुख्यमंत्री ने नालंदा परिसर की तर्ज पर 13 नगरीय निकायों में लाइब्रेरी की दी सौगात*

नीता अंबानी फिर चुनी गईं अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति की सदस्य

वित्त मंत्री  ओ.पी.चौधरी की पहल, रायगढ़ शहर में 3.14 करोड़ के सड़कों के काम स्वीकृत

Stock Market: बजट का आफ्टर इफेक्ट, सेंसेक्स 80280 तक फिसला-निफ्टी 24450 के नीचे, TATA के शेयर झूमे

गोदावरी नदी का जल स्तर बढ़ा, छत्तीसगढ़-तेलंगाना हाईवे बंद, NH पर वाहनों की लगी लंबी कतार