ढेलेदार त्वचा रोग: क्या मवेशियों से मनुष्यों में वायरस फैल सकता है? क्या दूध सुरक्षित है? Featured

बोलता गांव डेस्क।।images 7

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। क्या ढेलेदार त्वचा रोग (एलएसडी) वायरस मवेशियों से मनुष्यों में फैलता है? क्या आप जो दूध पीते हैं वह काफी सुरक्षित है? भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के वैज्ञानिक यह पता लगाने के लिए एक अध्ययन कर रहे हैं कि क्या ढेलेदार त्वचा के वायरस के संचरण की कोई संभावना है, जिसने भारत में 65,000 से अधिक मवेशियों को मानव आबादी में मार दिया है।

 

खतरनाक वायरस से संक्रमित मवेशियों के सिर के नमूने जांच के लिए एकत्र किए गए हैं। परीक्षणों से यह भी पता चलेगा कि यदि आप संक्रमित मवेशियों के दूध का सेवन करते हैं, तो क्या आप संक्रमित हो जाएंगे? हालांकि, आपको ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है, क्योंकि अब तक, जबकि भारत के 18 राज्यों में लम्पी वायरस के 15 लाख मामले सामने आए हैं, मवेशियों से इंसानों में संक्रमण का कोई सबूत नहीं है।

 

गुरु अंगद देव वेटरनरी एंड एनिमल साइंसेज यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञों ने हाल ही में इस डर को शांत किया जब उन्होंने कहा कि इस तरह के ढेलेदार वायरस का एक मवेशी से मानव संचरण नहीं होता है, यह सब एक मिथक है।

 

सेंटर फॉर वन हेल्थ के निदेशक डॉ. जसबीर सिंह बेदी ने कथित तौर पर बताया कि वायरस सीधे संपर्क से या प्रभावित जानवरों के दूध के सेवन से मनुष्यों को संक्रमित नहीं करता है। हालांकि, उन्होंने रेखांकित किया कि दूध पीने से पहले उसे उबालना चाहिए। तो, क्या पाश्चुरीकृत दूध बिना पाश्चुरीकृत दूध से बेहतर है?

 

भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (आईवीआरआई) के संयुक्त निदेशक अशोक कुमार मोहंती ने पीटीआई-भाषा को बताया कि संक्रमित मवेशियों के दूध का सेवन सुरक्षित है।

 

दूध उबालने के बाद या बिना उबाले दूध पीने से भी उसकी गुणवत्ता में कोई दिक्कत नहीं होती है। बरेली में ICMRs भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (IVRI) के एक वैज्ञानिक ने कथित तौर पर यह कहते हुए उद्धृत किया कि यदि बछड़ा संक्रमित गाय के कच्चे दूध का सेवन करता है, तो वह वायरस को अनुबंधित कर सकता है।

 

अधिकांश वैज्ञानिक एक आम सहमति व्यक्त करते हैं जब वे कहते हैं कि ढेलेदार त्वचा रोग में स्पष्ट रूप से एक जूनोटिक लिंक नहीं है, जानवरों से मनुष्यों में इसके संचरण को खारिज करते हैं। हालांकि, चूंकि इस बीमारी ने एक अभूतपूर्व उछाल देखा है, इसलिए वे लोगों के मन से सभी शंकाओं को दूर करना चाहते हैं, जिनमें ज्यादातर पशु चिकित्सक हैं। ICMR का अध्ययन वैज्ञानिकों द्वारा अनुसंधान करने के लिए वैज्ञानिकों को उकसाने के बाद आया है।

 

7 अक्टूबर तक, आईवीआरआई शोधकर्ताओं ने 850 नमूनों का परीक्षण किया था, और उनमें से 300 सकारात्मक पाए गए थे। हालांकि, इस बात का कोई सबूत नहीं था कि ढेलेदार वायरस इंसानों को भी संक्रमित कर सकता है। केवल भैंस, गाय, बकरी और भेड़ ही इस बीमारी से प्रभावित होते हैं।

 

गांठदार त्वचा रोग

किसी भी मवेशी से मानव संचरण को साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं है। (फोटो: पीटीआई) यह कैसे पीड़ित पर हमला करता है ढेलेदार त्वचा के वायरस का पता जीनस कैप्रिपोक्सवायरस से लगाया जा सकता है, जो चेचक के वायरस और मंकीपॉक्स वायरस (पॉक्सविरिडे) के समान परिवार से है।

 

यह वायरस मक्खियों, मच्छरों, ततैया, या टिक्कों जैसे रक्त-पान करने वाले कीड़ों से फैलता है। इसके शुरुआती लक्षण शरीर में थकान, बुखार और लिम्फ नोड्स हैं। बाद में, यह संक्रमित मवेशियों की प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है और फिर उसके श्वसन अंगों को प्रभावित करता है। संक्रमित जानवरों में गर्भपात पाया गया है। साथ ही दुग्ध उत्पादन में भी गिरावट आई है।

 

 

Rate this item
(0 votes)

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

RO No 12784/11 "
Samvad B

Post Gallery

Indian Railways: रेल यात्रियों के लिए अच्‍छी खबर, 17 दिनों का रेलवे ब्‍लॉक खत्म होने से इस रूट की कैंसिल ट्रेनें पटरी पर लौटी

Paper Leak: पेपर लीक करने वालों को दस साल की जेल, एक करोड़ रुपये जुर्माना, मोदी सरकार ने लागू किया नया कानून

Bhilai Cyber Fraud: ऑनलाइन वर्क से कमाई के चक्‍कर में गंवाए 80 लाख रुपये, रील्स देखकर महिला हुई ठगी का शिकार

Sheikh Hasina India Visit: भारत पहुंची बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना, प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति भवन में किया स्‍वागत

मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर आयोजित राज्य स्तरीय सामूहिक योगाभ्यास में हुए शामिल

निवेशकों ने मुख्यमंत्री से मिलकर छत्तीसगढ़ में निवेश करने में दिखाई रूचि

नालंदा एक मूल्य है, मंत्र है, गौरव है, गाथा है- PM Modi

अयोध्या में राम मंदिर की सुरक्षा में तैनात जवान की गोली लगने से मौत, जांच जारी

पाकिस्तानी फैन की विजय शंकर ने बताई करतूत, क्यों दे रहा था गालियां?